What is Turbocharger? & How Does It Works?

What is Turbocharger? & How Does It Works?

1
0 minutes, 15 seconds Read

एक टर्बोचार्जर, (या टर्बो), टरबाइन चालित एक फोर्स्ड इंडक्शन उपकरण है जो इंजन के कम्बस्चन चैम्बर में अतिरिक्त हवा को फ़ोर्स करके आंतरिक दहन इंजन की दक्षता और शक्ति उत्पादन को बढ़ाता है।

आमतौर पर, एक टर्बो हवा को चूसता ( Suck) है, इसे ठंडा करता है, और फिर यह इंजन को अपने स्टैण्डर्ड इनटेक से प्राप्त होने वाली हवा से अधिक हवा देता है। एक टर्बोचार्जर एक छोटा टर्बाइन होता है, टर्बोचार्जर को इंजन के एग्जॉस्ट मैनिफोल्ड पर बोल्ट किया जाता है। यहां सिलेंडर से निकलने वाली एग्जॉस्ट गैसेस टरबाइन को घुमाटी है, जो गैस टरबाइन इंजन की तरह काम करता है। टरबाइन एक शाफ्ट द्वारा कंप्रेसर से जुड़ा होता है, जो एयर फिल्टर और इनटेक मैनिफोल्ड के बीच स्थित होता है।

एक टर्बोचार्जर टरबाइन को स्पिन करने के लिए एग्जॉस्ट गैसों का उपयोग करता है जो आपकी कार के इंजन में इनटेक के दौरान ज्यादा हवा इंजन सिलिंडर में भेजता है और कार की शक्ति बढ़ाता है।

टर्बोचार्जर

How Does Turbocharger Works?

एक टर्बोचार्जर दो मुख्य भागो से बना होता है: टरबाइन और कंप्रेसर। टरबाइन में एक टरबाइन और एक टरबाइन हाऊसिंग होती है टर्बाइन हाउसिंग का काम एग्जॉस्ट गैस को टरबाइन व्हील में गाइड करना है। इंजन से निकली हुई एग्जॉस्ट गैस टरबाइन को घुमाती है।

कंप्रेसर में भी दो भाग होते हैं: कंप्रेसर व्हील और कंप्रेसर हाउसिंग । कंप्रेसर की क्रिया का तरीका टर्बाइन के विपरीत है। कंप्रेसर व्हील स्टील शाफ्ट द्वारा टर्बाइन से जुड़ा हुआ है। टरबाइन के घुमने से कंप्रेसर भी घूमेगा जिसके कारण इनटेक एयर कंप्रेस्ड होगी और इंजन के हर एक इनटेक स्ट्रोक में ज्यादा एयर जाएगी जिससे इंजन में फ्यूल बर्निंग अच्छी तरह से होगी और इंजन ज्यादा दक्षता से काम करेगा।

Image Source: cummins

Types of Turbochargers:

ऑटोमोबाइल में उपयोग किए जाने वाले टर्बोचार्जर हैं-

  1. Single-Turbo
  2. Twin-Turbo
  3. Twin-Scroll Turbo
  4. Variable Geometry Turbo
  5. Variable Twin Scroll Turbo
  6. Electric Turbo

Why Turbocharger is Needed?

सामान्य तौर पर, इंजन सीधे वातावरण से हवा चूसते(Suck) करते हैं, ऐसे इंजनो को Naturally Aspirated Engine कहते है Naturally Aspirated Engine दहन के लिए वातावरण से पर्याप्त हवा नहीं चूसते हैं। यह उच्च गति या इंजन के डिजाइन के कारण हो सकता है।

उस स्थिति में, आपको संपूर्ण दहन के लिए इंजन को हवा प्रदान करने के लिए एक बाहरी उपकरण का उपयोग करने की आवश्यकता होती है, और इस उपकरण को टर्बोचार्जर के रूप में जाना जाता है। एक टर्बोचार्जर अपना काम करने के लिए एग्जॉस्ट गैसों से ऊर्जा प्राप्त करता है।

Advantages of a Turbo Engine

जब आप टर्बोचार्जर का उपयोग करते हैं, तो आप पेट्रोल या डीजल दोनों इंजनों का उपयोग कर सकते हैं। आप लगभग किसी भी प्रकार के वाहन पर टर्बोचार्जर का उपयोग कर सकते हैं। किसी भी टर्बोचार्जर का उपयोग करने का मूल लाभ यह है कि आपको समान आकार के इंजन के लिए अधिक पावर आउटपुट मिलेगा। इसका मतलब यह है कि सभी सिलेंडरों में पिस्टन का हर एक स्ट्रोक अन्य की तुलना में अधिक शक्ति उत्पन्न करेगा।

जब एक इंजन में टर्बोचार्जर लगाया जाता है, तो यह बिना टर्बोचार्जर के समान शक्ति उत्पन्न करने वाले इंजन की तुलना में सैद्धांतिक रूप से छोटा और हल्का होता है। तो, एक टर्बोचार्जर कार अक्सर उस संबंध में बेहतर ईंधन बचत देती है। कार निर्माता अक्सर एक ही कार में बहुत छोटे इंजन का उपयोग करते हैं। उदाहरण के लिए, V8 के बजाय टर्बोचार्ज्ड V6, या V6 के बजाय टर्बोचार्ज्ड चार-सिलेंडर इंजन।

तो वहीं टर्बोचार्जर को एक और बड़ा फायदा मिलता है। अच्छा काम करने पर, वे ईंधन बचा सकते हैं! और चूंकि वे अधिक ऑक्सीजन के साथ ईंधन जलाते हैं, वे अक्सर ईंधन को अधिक सफाई से जलाते हैं, जिससे वायु प्रदूषण कम होता है। यह टर्बोचार्जर इंजन को पर्यावरण के अनुकूल विकल्प भी बनाता है।

Disadvantages of a Turbo Engine-

जब आप इंजन में टर्बोचार्जर जोड़ते हैं, तो आप एक साधारण इंजन में यांत्रिक जटिलता की एक और परत जोड़ रहे होते हैं। इसका मतलब जब आप इंजन में टर्बोचार्जर जोड़ते हैं तो आपको एक्स्ट्रा मैकेनिकल डिवाइस जोड़ना पड़ता है जिसका Disadvantages यह है की आपको इसे अधिक रखरखाव की आवश्यकता होती है जो टर्बोचार्जर इंजन को और महंगा बनाते हैं।

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *